CIBIL Score क्या होता है और सिबिल स्कोर कैसे चेक करें

cibil score meaning

cibil score meaning in hindi – दोस्तों क्या आप जानते CIBIL Scrore क्या होता है | दोस्तों कभी कभी हमे अपनी कुछ ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए पर्याप्त पैसा न होनी की वजह से लोन लेने की आवश्यकता पड़ जाती है जैसे की होम लोन ,कार लोन ,पर्सनल लोन इत्यादि |

इसलिए आपको लोन मिलेगा की नहीं या जो आपने credit card apply किया है वह आपको मिलेगा की नहीं यह कहीं हद तक आपके CIBIL या Credit स्कोर पर भी निर्भर करता है तो आजका हमारी पोस्ट CIBIL Score पर आधारित है |

प्रत्येक व्यक्ति के लिए इसका जाना बेहद जरुरी है क्योंकि आपकी एक गलती भविष्य में आपको लोन या फिर credit card लेने में दिक्कत पैदा कर सकती है | हमारी यह मुहीम है की प्रत्येक व्यक्ति को finance की knowledge होनी चाहिए | आईये विस्तार में जानते है कि CIBIL Score क्या होता है  ?

सिबिल स्कोर क्या होता है (What is CIBIL Score in Hindi)

जब भी कोई व्यक्ति किसी बैंक या वित्तीय संस्थान के पास लोन लेने जैसे की Home loan ,Car loan ,Personal loan ,क्रेडिट कार्ड इत्यादि लेने के लिए आवेदन करता है तो वह बैंक या संस्थान आपके लोन चुकाने या कहे तो क़र्ज़ अदायगी की क्षमता को CIBIL Score के आधार पर चेक करती है |

CIBIL स्कोर एक 3 digit number होता है जो की आपकी credit history को दर्शाता है भूतकाल में आपने अपने लोन तथा क्रेडिट कार्ड की पेमेंट का किस प्रकार भुक्तान किया है यह सब उसमे मौजूद होता है इससे आपके लोन चुकाने की क्षमता का पता लगाया जाता है |

जितना ज्यादा CIBIL स्कोर होता है उतना अच्छा माना जाता और ज्यादा CIBIL स्कोर होने से आपको लोन मिलने की संभावना बढ़ जाती है  |

आपका सिबिल स्कोर कौन जारी करता है?

CIBIL का Full form होता है Credit Information Bureau of India Limited जो कि भारत की पहली क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनी है जिसका कार्य Credit Information रिपोर्ट तैयार करती है |

इस कंपनी की शुरुवात सन 2000 में की गयी थी |  2016 में अमेरिकी कंपनी TransUnion द्वारा CIBIL में 82% हिस्सा  खरीद लेने के बाद इसका नाम बदलकर TransUnion CIBIL Limited रख दिया गया |

 

सिबिल स्कोर किस आधार पर बनता है?

आपका CIBIL Score ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड द्वारा जारी किया जाता है यह कंपनी विभिन्न बैंकों और वित्तीय संस्थाओं से, लोगो की credit reports मांगती है जिसमे हमारे Loans और Credit Card संबंधी सभी भुगतानों का लेखा जोखा होता है | इस प्रकार CIBIL Score आपके पहले के loans और credit card के भुकतानो के आधार पर तैयार किया जाता है |

 

आपका सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए?

एक सिबिल स्कोर की रेंज 300 -900 तक होती है इसलिए जितना ज्यादा सिबिल होता है उतना ही अच्छा होता है आइये हम आपको विभिन स्कोर के मायने बता देते है –

Rating 0 or -1: यदि आपका CIBIL स्कोर 0 या 0 से कम है,तो इसका सीधा मतलब यह है कि आपका क्रेडिट कार्ड या ऋण के माध्यम से बनाया गया कोई क्रेडिट इतिहास नहीं है मतलब की आपने अतीत में न कोई loan लिया है और न ही कोई credit card से खरीदारी की है |इस स्तर पर आपको क्रेडिट कार्ड से खरीदारी या फिर ऋण लेने पर विचार करना चाहिए ताकि आपका क्रेडिट इतिहास बन सके |

Rating 350 – 550: अगर आपका सिबिल स्कोर इस रेंज में आता है तो यह आपके लिए अलार्म की तरह है क्योंकि इस रेंज को बैंको और वित्तीय संस्थानों द्वारा बहुत खराब स्कोर माना जाता है।इसका सीधा मतलब है की आप अपने भुगतानों से चूक रहे हैं और आपको नए ऋण या नए क्रेडिट कार्ड मिलने की संभावनाएं बहुत कम हैं |

Rating 550 – 650: यदि आपका सिबिल स्कोर इस रेंज में आता है तो यह दर्शाता है की आप अपने ऋण
और क्रेडिट कार्ड के भुगतान करने में काफी नियमित है और आपको बिना अधिक परेशानी के आपका ऋण जाने की संभावना है।

Rating 650 – 750: यदि आपका सिबिल स्कोर इस रेंज में आता है तो यह स्कोर काफी अच्छा माना जाता है आपको सभी बैंक लोन देने के लिए मंजूर हो जाएंगे बस आप इस रेंज में ब्याज दर पर negotiate नहीं कर पाएंगे |

Rating 750 – 900: यह CIBIL स्कोर की सबसे अच्छे श्रेणी में आता है | इसका मतलब यह है की आप अपने क्रेडिट भुगतान के साथ बहुत नियमित है, बैंक ऐसे व्यक्तियों को लोन पर कम ब्याज की पेशकश भी करते है |

आप अपना सिबिल स्कोर कैसे चेक कर सकते है ?

आपको लोन मिलेगा की नहीं यह जानने के लिए आपको अपना सिबिल स्कोर जरूर चेक कर लेना चाहिए बहुत सी ऐसी वेबसाइट है जहा पर जाकर आप अपना सिबिल स्कोर फ्री में चेक कर सकते है लेकिन अगर आपको पूरी रिपोर्ट देखनी होगी तो आपको साल के 1200 रूपए तक देने पड़ सकते है | आइये जानते है की कैसे आप अपना सिबिल स्कोर फ्री में देख सकते है –

  • फ्री में सिबिल स्कोर चेक करने के लिए आपको दिए गए लिंक पर जाना होगा https://www.cibil.com/freecreditscore/
  • अब आपके सामने वेबसाइट का पेज खुलेगा उसमे आपको form fill करना होगा ,जिसमे आपको अपनी सभी जानकारी जैसे की आपका नाम ,address, contact number और PAN details देना होगा |
  • फिर आपको कुछ सवालों के जवाब देने होंगे तथा आपको अपने आप को Verify भी करवाना पड़ेगा फिर उसके बाद आपको आपका सिबिल स्कोर नज़र आएगा |

आपका सिबिल स्कोर हर महीने update होता है इसलिए भविष्य में आपको लोन या क्रेडिट कार्ड apply हेतु कोई परिशानी न हो ,आपको निरंतर अपने सिबिल स्कोर पर नज़र  रखनी चाहिए |

CIBIL स्कोर कैसे कैलकुलेट किया जाता है ?

CIBIL स्कोर की calculation आपकी credit history के आधार पर की जाती है ,इसमें आपके क़र्ज़ अदायगी के पैमाने को credit bureau द्वारा नीचे दिए गए कुछ मापदंडो  के आधार पर मापा जाता है | credit history के अलावा भी कई ऐसे  factors है जिनको CIBIL स्कोर calculate करते वक़्त consider किया जाता है आइये उन factors के बारे में जानते है –

1. Credit History
Emi भरने में देरी करना या फिर डिफॉल्ट करना इसका आपके CIBIL स्कोर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है | इसलिए credit history को cibil score में सबसे ज्यादा  महत्व दिया जाता है जो की cibil score का 30% है |

2. Credit Mix
यदि आपके पास सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन का मिला जुला संबध है तो इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक असर होता है जो की आपके cibil score में 25 % weightage रखता है |

3. High credit utilization
अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को पूरी तरह यूटिलाइज  करते है तो ये आपके क़र्ज़ बढ़ने के  संकेत दर्शाता है इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर बुरा प्रभाव पड़ता है |

4. Frequent inquiries (बार-बार पूछताछ)
यदि आप लोन के विषय में बार बार पूछताछ करते करते है  तो इससे आपका  सिबिल स्कोर कम हो सकता है जब भी आप लोन के विषय में पूछताछ करते है तो बैंक bureau द्वारा आपका सिबिल स्कोर मंगवाती है तो यह संकेत देता है की भविष्य में आप पर लोन का बोझ बढ़ सकता है इसी वजह से जब भी लोन से संबंदित पूछताछ करते है तो आपका सिबिल प्रत्येक query में 2 स्कोर कम हो जाता है |

Conclusion 

दोस्तों जरूरी नहीं है की अगर आपका सिबिल स्कोर कम है तो आपको लोन नहीं मिलेगा लोन हमेशा आपके भविष्य में लोन चुकाने की क्षमता पर मिलता है हालाँकि सिबिल स्कोर अच्छा न हो तो कुछ कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है लेकिन अगर आप बैंक को convice कर दे लोन के लिए अपने आज के क़र्ज़ अदायगी के क्षमता को दिखाकर तो आपको लोन मिल सकता है |

आशा है आपको हमारे यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमे कमेंट कर बता सकते है हम आपके सवालों के जवाब जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे |

Yogesh Singh

नमस्कार दोस्तों, मैं Yogesh , Investmantra (इंवेस्टमंत्रा ) का Author & Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Computer Graduate हूँ. मुझे Finance से सम्बंधित नयी नयी चीज़ों को सिखने के साथ साथ भारत सरकार की विभिन्न योजनाओ के बारे में दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरा 'उद्देश्य' है की भारत के प्रत्येक नागरिक को finance की knowledge होनी चाहिए |

View all posts by Yogesh Singh →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *