डीमैट अकाउंट क्या होता है -(Demat Account in Hindi)

2
38
Demat Account in Hindi

हेलो दोस्तों ! क्या आप को पता है Demat Account क्या होता है (Demat Account in Hindi)? इसके आने से Share Market में निवेश करने की प्रक्रिया में कैसे बदलाव आया है और कैसे आप भी Demat Account खोल सकते है ? इसके क्या क्या फायदे है ?बाजार में निवेश करने के लिए Demat Account क्यों जरुरी  है ?आईये विस्तार में जानते है |

Demat Account क्या होता है (Demat Account in Hindi)?

Demat Account  में लोगो द्वारा खरीदे गए शेयर्स को रखा जाता है और शेयर के अलावा म्युचुअल फंड यूनिट,बॉन्ड , डिबेंचर, और सिक्योरिटीज को भी रखा जाता है । बाजार में निवेश करने के लिए आपके पास Demat Account जरूर  होना चाहिए  |

जैसे आप बैंक में जाकर अपने पैसे निकालते है तो वह भौतिक रूप में आपको मिलते है | वही जब आप क्रेडिट कार्ड या नेटबैंकिंग के के माध्यम से  किसी को पैसे  ट्रांसफर करते हो तो वह भी  Digital Money कहलाता है |

ठीक उसी प्रकार आपके शेयर्स भी  डिजिटल रखे जाते है जिसे आप भौतिक रूप से देख नहीं सकते और शेयर्स बेचने पर दूसरे  व्यक्ति के  Demat Account  में  वह  शेयर्स स्थानांतरित हो जाते है|

Demat Account  एक बैंक अकाउंट की तरह ही है बस यहाँ पैसे नहीं शेयर्स रखे जाते है और शेयर्स बेचने पर यही से  दुसरे  निवेशक  के  Demat Account में ट्रांसफर भी किये जाते है|

लेकिन पहले यह  प्रक्रिया  इतनी सरल नहीं थी| उस  समय आप को कंपनी द्वारा दस्तावेज दिए जाते थे और जब आपको  अपने शेयर्स  को बेचना होता था  तो उन  सब दस्तावेजों को कंपनी में वापिस  जमा करना पड़ता था | कभी कभी इस प्रक्रिया में कई  महीने भी लग जाए किया करते थे |

 

Demat Account क्यों होना चाहिए ?

अगर आपको शेयर मार्किट से shares खरीदने और बेचने है तो आपके पास Demat Account जरूर होना चाहिए | क्योँकि SEBI(Security and Exchange Board OF India) के निर्देशानुशार बिना डीमैट खाते के आप shares खरीद और बेच नहीं सकते |

 

Demat Account कौन खोलता है ?

भारत में केवल दो संस्थाओ द्वारा ही डीमैट अकाउंट खोला जाता है:

  • National Securities Depository Limited(NSDL)
  • Central Depository Services Limited (CDSL)

आपको बस अपने ब्रोकर या बैंक को निर्देश देने की जरुरत है वह इन दोनों संस्थाओ में से किसी एक के पास आपका डीमैट अकाउंट खोल देंगे |  भारत में बहुत से  ब्रोकर्स  है  जो इन दो संस्थाए से जुड़े  है जिनके पास जाकर आप अपना डीमैट खाता खुलवा सकते है अब तो इंटरनेट के माधयम से यह प्रक्रिया काफी सरल हो चुकी बस आपके पास खाता खुलवाने के लिए पैन कार्ड जरूर होना चाहिए |

डीमैट खाता खोलने के लिए कौन कौन से Documents की जरुरत पड़ती है ?

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए आपके पास नीचे दिए गए डाक्यूमेंट्स की जरुरत पड़ती है|

  • पैन कार्ड  (Pan Card)
  • आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • २ पासपोर्ट फोटो (2 Passport Size Photos)
  • सेविंग खाता पासबुक (Saving Bank Account Passbook)

Demat Account खुलवाने का खर्च ?

आपको लगता होगा की डीमैट अकाउंट खोलना काफी ख़र्चे वाला काम होगा तो में आपको बता दू आप बिलकुल गलत हो | डिस्काउंटेड ब्रोकर्स के आने जाने से डीमैट अकाउंट रखना काफी किफायती हो गया है |

यहाँ तक की कुछ ब्रोकर्स तो बिना पैसे लिए ही आपका खाता खुलवा देते है Upstox और Angel Broker वह दो ब्रोकर्स है जो आपका खाता बिना पैसे लिए ही खुलवा देते है साथ ही में 1 साल तक फ्री मेन्टेन्स भी देते है | वैसे डीमैट अकाउंट खुलवाने का ख़र्च 300-700 तक आ जाता है  वही मेन्टेन्स चार्जेज भी ब्रोकर्स के अपने अलग अलग होते है |

Note: डीमैट अकाउंट खुलवाने से पहले आप ब्रोकर्स की फीस ,सालाना मेन्टेन्स चार्जेज ,जरुर देख ले |

Demat Account काम कैसे करता है ?

जब आप शेयर्स खरीदते है तो आपका ब्रोकर Demat Account में वह शेयर्स को Credit कर देता है और आपको अपनी होल्डिंग्स में वो नज़र आने लगता है लेकिन शेयर्स को क्रेडिट होने में 2 दिन का समय लगता है और आप इंटरनेट के माध्यम से उसे अपनी होल्डिंग में देख सकते है |
और जब आप शेयर्स को बेचते है तो आपका ब्रोकर उन शेयर्स को आपके डीमैट अकाउंट से Debit कर देता है और आपके बिके हुए शेयर्स के पैसो को आपके Trading Account में ड़ाल देता है और आपको यह सारा विवरण इंटरनेट के माध्यम से आपको दिखने लगता है |

 

Demat Account के फायदे

  1. पहले शेयर्स भौतिक रूप में मिला करते थे तो इसमे चोरी तथा डकैती का खतरा बना रहता था जिस वजह से  अधिकतर लोग शेयर्स में इन्वेस्ट नहीं करते थे| लेकिन अब इस परिक्रिया में  से जोखिम समाप्त किया जा  चूका है क्यूंकि अब शेयर्स को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखा जाता है|
  2. पहले ऐसा संभव नहीं था की आप Demat account  खोलते समय  किसी  व्यक्ति को नामांकित करे लेकिन अब आप कर सकते है|
  3. Demat Account के आने से शेयर्स को स्थानांतरित करने में बिलकुल भी समय नहीं लगता पहले इस परक्रिया में कभी कभी कई महीने लग जाते थे |
  4. Demat Account को बंद करने की प्रक्रिया भी काफी सरल हो चुकी है आप को कही भी जाने की आवश्यकता नहीं है आप इसे ऑनलाइन कर  सकते है|
  5. पहले Shares को बेचने की प्रक्रिया सरल नहीं थी | क्योँकि आप odd lot में shares नही बेच सकते थे लेकिन अब आप कम से कम 1 share को भी बेच सकते है |

Conclusion

आज हमने जाना की Demat Account क्या होता है किसी निवेशक के लिए यह कितना जरुरी  है अगर आपका  कोई सवाल  या सुझाव है तो आप हमे  कमेंट कर सकते है |

 

 

 

 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here