RTI क्या होता है और इसे कैसे आवेदन करते है ?

rti application form in hindi

हैलो दोस्तों Investmantra.net में आपका स्वागत है | दोस्तों क्या आप जानते है आप सरकार या फिर किसी भी सरकारी विभाग से उनके काम काज का ब्यौरा मांग सकते है जी हाँ बहुत से लोग अभी इस जानकारी से वंचित है ये सब RTI के माध्यम से मुमकिन है आज हम जानेगे की RTI क्या होता है ? RTI full form in hindi और कैसे आप RTI आवेदन फार्म भर सकते है | आइये विस्तार में जानते है –

RTI क्या होता है ? RTI full form in Hindi

दोस्तों RTI Full Form होता है RIGHT TO INFORMATION जिसका हिंदी में अर्थ है सूचना का अधिकार जी है RTI सरकार का एक अधिनियम है जिसके मुताबिक़ भारत के प्रत्येक नागरिक को सुचना का अधिकार है |RTI अधिनियम को संसद द्वारा 15 जून 2005 को पारित किया गया था जिसको मूल रूप से 12 अक्टूबर 2005 को लागू किया गया |

सूचना का अधिकार एक ऐसा अधिकार है जिसके माध्यम से आप सरकारी काम काज या कहे सरकार से जुडी हुई किसी भी सरकारी योजना का निरीक्षण कर सकते है जैसे की राशन की दूकान में कितना राशन आया ,सड़क बनाने में कितना खर्च हुआ ,कॉलेज के चेक की हुई answer sheet इत्यादि |

RTI लाने का मुख्य उद्देश्य क्या था ?

आय दिन बढ़ते हुई भ्रष्टाचार के कारण लोगो का सरकार प्रणाली से विश्वास उठता जा रहा था | क्योंकि भारत एक लोकतांत्रिक देश है और हमारे द्वारा चुनी हुई सरकार कैसा कार्य करती है इसके बारे में जानना हमारा हक़ है |

इसलिए सरकार द्वारा 2015 में RTI अधिनियम लाया गया जिससे हमारा लोकतंत्र काफी हद तक मजबूत हुआ है आप सरकार से किसी भी सरकारी योजना के बारे में पूछताछ कर सकते है |

भारत के जम्मू और कश्मीर राज्यों को छोड़कर पूरे भारत वर्ष में RTI अधिनियम को लागू किया है |

RTI के क्या फायदा है Benefits of RTI Act

  • भारत का प्रत्येक नागरिक किसी भी सरकारी विभाग से कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकता है |
  • RTI अधिनियम से सरकारी काम काज में पारदर्शिता आयी है |
  • RTI अधिनियम के माध्यम से यदि किसी सरकारी काम काज में देरी हुई है या आपके साथ धोका हुआ है तो आप इसे सबूत के रूप में पेश कर सकते है |
  • भ्रष्टाचार पर कुछ हद तक लगाम लगाने में यह मददगार है |

RTI के लिए कैसे आवेदन करे ?

RTI के लिए भारत का प्रत्येक नागरिक आवेदन कर सकता है | उसे जिस भी सरकारी विभाग की जानकारी प्राप्त करनी है उसी विभाग के public information officer के नाम से application लिखनी पड़ती है |

application को आप साधारण भाषा में लिख सकते है और आप अपने सवाल पूछ सकते है आप हिंदी ,english या अपनी स्थानीय भाषा में भी लिख सकते है |

अगर कोई अधिकारी आपको जानकारी देने से मना करता है या फिर जानबूझकर देरी करता है तो आप उस अधिकारी पर केस कर सकते है प्रतिदिन देरी के हिसाब से उस officer को 250 रुपये देने होंगे |

RTI Sample Application Form in Hindi

सेवा में,

केन्द्रीय / जनसूचना अधिकारी
विभाग का नाम………….

विषय – RTI Act 2005 के अंतर्गत ……………… से संबधित सूचनाऐं।

प्रिय सर/ मैडम ,

मैं भारत का एक नागरिक हूँ | कृपया मुझे मेरे पते पर नीचे पूछे हुए सुचना की प्रमाणित प्रतियां प्रदान करे |

आप अपने सवाल यहाँ लिखें।

1-…………………………
2-………………………….
3-…………………………
4-…………………………

मैं आवेदन के लिए फीस के रूप में 10रू का पोस्टलऑर्डर …….. संख्या अलग से आपको जमा कर रहा /रही हूं।

यदि मेरी मांगी गई सूचना आपके कार्यालय/विभाग से सम्बंधित
नहीं है तो RTI अधिनियम,2005 की धारा 6 (3) का संज्ञान लेते हुए मेरा आवेदन को सम्बंधित लोकसूचना अधिकारी को पांच दिनों के अन्तर्गत हस्तान्तरित करें दे ।

साथ ही RTI ACT के प्रावधानों के तहत सूचना उपलब्ध् कराते वक़्त प्रथम अपील अधिकारी का नाम व पता हमे अवश्य बतायें।

नाम:………………..
पता:…………………
फोन नं:………………

हस्ताक्षर……………….

 

आप ऊपर दी गयी जानकारी से अपना Application form तैयार कर सकते है अगर फिर भी आपको  दिक्कत होतो आप हमे कमेंट कर सकते है |

Conclusion

आशा है आजकी हमारी यह पोस्ट आप सभी के लिए मददगार सिद्द  होगी, अगर आपका हमारी पोस्ट  से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमे कमेंट कर बता सकते है हम आपकी जरूर सहायता करेंगे |

 

Yogesh Singh

नमस्कार दोस्तों, मैं Yogesh , Investmantra (इंवेस्टमंत्रा ) का Author & Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं एक Computer Graduate हूँ. मुझे Finance से सम्बंधित नयी नयी चीज़ों को सिखने के साथ साथ भारत सरकार की विभिन्न योजनाओ के बारे में दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरा 'उद्देश्य' है की भारत के प्रत्येक नागरिक को finance की knowledge होनी चाहिए |

View all posts by Yogesh Singh →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *