STOCK MARKET में “INVEST” करे या “TRADING” क्या अंतर है ?

0
25
Investing और Trading

हेलो दोस्तों आज हम सीखेंगे की Stock Market में Investing और Trading क्या होता है इसमें क्या अंतर है |अगर आपने हमारी पोस्ट स्टॉक मार्किट क्या है नहीं देखी तो आप देख सकते है |

दोस्तों स्टॉक मार्किट में पैसा केवल दो तरीको से ही कमाया जाता है पहला होता है Long Term Investing और दूसरा होता है Trading दोनों ही तरीको को अपनाने के लिए आपको अलग अलग अध्ययन करना पड़ता है |

बिना अध्ययन के आप शेयर मार्किट से कभी पैसा नहीं कमा सकते अगर आप शुरुवात में बिना अध्ययन के थोड़ा बहुत पैसा भी बना लेने में कामयाब  भी हो जाते हो  तब भी आगे चलकर आपको नुक्सान ही होगा आइये विस्तार में जानते है |

ट्रेडिंग क्या है (What is Trading in Hindi) ?

स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग से आप जल्दी पैसा कमा सकते है यहाँ तक की आप कम पैसो से भी शुरुवात कर अच्छा पैसा बना सकते है | स्टॉक मार्किट का 90 फ़ीसदी कारोबार ट्रेडिंग से ही होता है | जिसमे आप पैसा स्टॉक प्राइस की मूवमेंट से कमाया जाता है | सरल भाषा में कहे तो शेयर को खरीदने और बेचने का जो अंतर होता है वह आपका मुनाफा होता है |

ट्रेडिंग में निवेशक शेयर को कुछ समय के लिए अपने पास रखता है और उसके कुछ समय बाद जब उसको बाजार की चाल देखकर ठीक लगे बेच देता है तो शेयर्स के खरीदने और बेचने के बीच में जितने प्राइस का अंतर होता है वो निवेशक का मुनाफा या घाटा दर्शाता है |

मान लीजिये किसी कंपनी के बारे में कोई अच्छी न्यूज़ आती है तो बहुत से निवेशक उसको खरीदना चाहेंगे और Demand बढ़ेगी जिसके कारण उस शेयर का भाव बढ़ने लगता है | इसके विपरीत अगर किसी कंपनी के बारे में कोई Negative न्यूज़ आती है तो लोग शेयर्स बेचने लगते है जिसकी वजह से शेयर का भाव नीचे आ जाता है |

Trading से पैसा कैसे बनता है ?

जैसा की मैंने पहले बताया ट्रेडिंग में पैसा स्टॉक मूवमेंट में Price fluctuation से बनता है |

मान लीजिये टाटा स्टील का शेयर प्राइस अभी Rs 20 चल रहा और किसी निवेशक ने उसके 10,000 शेयर्स ले लिए तो इस हिसाब से उसका निवेश Rs 200000 है और कुछ समय बाद वह प्राइस 20 से 22 जा पहुंचा तो उसके Rs 200000 के शेयर्स Rs 220,000 के जा पहुंचे तो अब उस निवेशक को शेयर्स बेचने पर 20,000 का मुनाफा हो जाएगा | ठीक इसी प्रकार ट्रेडिंग से से पैसा बनता है |

लेकिन यह इतना आसान नहीं है जिस तरह आपको जॉब लेने के लिए 12 साल से ज्यादा की पढ़ाई करनी पड़ती है ठीक उसी प्रकार आपको ट्रेडिंग या इंवेस्टिंग से पैसे कमाने के लिए भी आपको अध्ययन करना पड़ता है | ट्रेडिंग में आपको Charts का अध्ययन करना पड़ता है और खुद की Strategy बनानी पड़ती है जो आपको प्रॉफिट बनाकर दे यहां पर आप जितना Practical करोगे उतना सीखोगे |

शेयर बाजार में Trading कितने प्रकार की होती है ?

Stock market में ट्रेडिंग इन्वेस्टमेंट के मुकाबले ज्यादा रिस्क और जल्दी पैसा देने वाली होती है क्योँकि इसमें निवेशक सही मौका का इंतज़ार करता है और मौका आने पर अपना सौदा बेचकर पैसा कमा लेता है |स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग ३ प्रकार की होती है |

  • Intraday Trading-इंट्राडे ट्रेडिंग वह होती है जिसमे एक दिन के अंदर ही ट्रेड लिया और बेचा जाता है और आप सुबह के 9:15 am से ट्रेड ले सकते हो और आपको शाम 3:30 pm बजे तक शेयर बेचना पड़ता है | एक दिन के अंदर आप कई बार ट्रेड ले सकते हो |
  • Swing Trading-ऐसे ट्रेड जिसको आप कई दिनों ,हफ्तों या फिर कुछ महीनो तक ले जा सकते है वह ट्रेड इसके अंतर्गत आते है | अगर आप स्विंग ट्रेड कर रहे है तो आप अपने शेयर को खरीद कर कुछ महीनो तक अपने पास रख सकते है | अगर आपने January में कोई शेयर लिए है तो आप मार्च,अप्रैल ,मई तक वह शेयर बेच सकते है |
  • Scalper Trading-ऐसे ट्रेड जो कुछ मिनटों में ही पुरे कर लिए जाते है वह इसके अंतर्गत आते है | ऐसे ट्रेड में मार्किट काफी Volatile होती है | जिससे ट्रेड करना काफी risky हो जाता है |

 

Investing क्या होती है और इससे पैसा कैसे बनता है ?

स्टॉक मार्किट में Long Term Investment का मतलब है कम से कम से एक साल तक अपने पैसे को इन्वेस्ट करना जिससे आप शेयर बाजार के रोज मररा के उताव चढ़ाव से बच जाते है | इन्वेस्टमेंट में भी आपको पैसा कमाने के लिए अध्ययन करना पड़ता है आपका निवेश आपको अमीर भी बना सकता है लेकिन आपको कंपनियों का अध्ययन करना पड़ता है जिसको हम Fundamental Analysis भी कहते है | Fundamental Analysis में आप कंपनी की बैलेंस शीट ,PE ratio,Industry PE ratio इत्यादि का अध्ययन करते है |

अगर कंपनी अच्छी है और आपका निवेश उस कंपनी में है तो आपको जरूर फायदा होगा | कंपनी की growth अच्छी होती तोह ही उसके शेयर प्राइस भी ऊपर जाते है और तब आप अपना शेयर बेचकर प्रॉफिट कमा सकते है |

 

Investing और Trading में क्या अंतर है ?क्या बेहतर है ?

Investing में पैसा कमाने का सिर्फ एक ही तरीका है और वह है Research आपको कंपनी का Fundamental Analysis करना पड़ता है और जब कंपनी की अच्छी Growth होती तब उसके शेयर का भाव बढ़ने से एक निवेशक मुनाफा कमाता है |

Investing से हमारा मतलब कम से कम एक साल से ज्यादा देर तक कंपनी के शेयर्स को अपने पास रखना | Investing में ट्रेडिंग के मुकाबले Risk कम होता है और निवेशक साल का 10-15 प्रतिशत return की उम्मीद रखता है |

वही ट्रेडिंग में पैसा कमाने के लिए आपको Technical Analysis आना बहुत ही जरुरी है क्योँकि यह इन्वेस्टिंग के मुकाबले काफी risky है और यहाँ तक की Gamble भी माना जाता है लेकिन बिना Analysis के ट्रेडिंग करो या इन्वेस्टमेंट दोनों सट्टा ही है | आपको Charts के बारे में अच्छा ज्ञान होना चाहिए और indicators के बारे में भी पता होना चाहिए | यहाँ पर भी निवेशक महीने की 10-15 प्रतिशत return की उम्मीद रखता है |

Trading एक  ZERO -SUM GAME है जिसका मतलब आप यहाँ अगर पैसा कमाते तो किसी को जरूर नुक्सान हुआ होगा | वही Investment में पैसा कंपनी की अच्छी growth की वजह से बनता है और यह कोई ZERO -SUM GAME नहीं है |

 

Conclusion

दोस्तों Investing और Trading दोनों धन कमाने का अच्छा जरिया है आपको देखना है आपके लिए क्या बेहतर है जहा ट्रेडिंग में निवेशक हर दिन बाजार पर अपनी नज़र रखता है और शेयर को सस्तें में खरीद कर महंगे में बेचने से पैसा कमाता है वही इन्वेस्टिंग में निवेशक उन कंपनियों पर अपनी नज़र रखता है जो मौलिक रूप से मजबूत होती है और भविष्य में अच्छे रिटर्न दे सकती है |

Note: हम यहाँ पर Trading का किसी भी तरह से कोई भी प्रचार नहीं कर रहे है और न ही हम आपको Trading करने की सलाह देंगे क्योंकि ट्रेडिंग एक Zero-Sum Game है | आपको अपने हिसाब  से अपने विवेक को देखकर इन्वेस्ट करना चाहिए की आपके लिए क्या सही रहेगा इन्वेस्टमेंट या ट्रेडिंग |

आशा है आपको मेरी यह पोस्ट समझ में आयी होगी अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here